आंखों की रोशनी कमजोर हो रही हो तो आहार में शिमला मिर्च को शामिल करें, मोतियाबिंद की समस्या से निजात मिलेगी।

मोतियाबिंद और धब्बेदार अध: पतन जैसी समस्याओं को रोकने में शिमला मिर्च बहुत ही खास है।  

इस में ल्यूटिन और ज़ेक्सैन्थिन, दो प्राकृतिक यौगिक होते हैं जो आंखों के स्वास्थ्य के लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं 

ये दोनों यौगिक उत्कृष्ट एंटीऑक्सीडेंट हैं और आंखों के स्वास्थ्य के लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं  

शिमला मिर्च कैसे और कितनी मात्रा में खाएं   शिमला मिर्च को भी हफ्ते में 2-3 बार खाएं, इसे आप किसी भी तरह से खा सकते हैं, 

जैसे सब्जी बनाना, सलाद के तौर पर या सुखाकर.  हरी या लाल या पीली शिमला मिर्च जो भी आपको आसानी से मिल जाए आप खा सकते हैं। 

अगर आप 'बोलगारसके सुखोई' बनाना चाहते हैं तो शिमला मिर्च को लंबे आकार में काट कर दो दिन धूप में सुखा लें,  

एक दिन के लिए छाया में फैलाकर किसी कन्टेनर में रख लें.  

जब आपका खाने का मन हो तो आप इसमें चाट मसाला डाल सकते हैं।