कार लोन की ईएमआई फिक्स करते समय किन जरूरी बातों का ध्यान रखना चाहिए, रहेंगे फायदे में

कार खरीदना ज्यादातर लोगों का सपना होता है. खासतौर से कोरोना के बाद नौकरीपेशा आदमी कार खरीदने के लिए काफी गंभीर दिख रहा है.

हालांकि सामान्य आदमी के लिए कार खरीदने के लिए लोन एक महत्वपूर्ण माध्यम है

अगर आप भी लोन के माध्यम से कार खरीदने की योजना बना रहे हैं तो आपको ईएमआई की अवधि को लेकर अच्छे से सोच-विचार करना चाहिए.

अब सवाल ये आता है कि लोन की अवधि लंबी रखें या कम. कौन सा फायदेमंद होता है.

बैंकिंग एक्सपर्ट्स के मुताबिक, लोन की अवधि कम से कम रखने की कोशिश करनी चाहिए.

आमतौर पर कार लोन आदमी 3 से 5 साल के लिए लेता है और अधिकतम 8 साल तक के लोन लिया जा सकता है.

लेकिन जितना लंबा टाइम होगा ब्याज उतना ही ज्यादा देना होगा.  7 से 8 साल  के लिए लोन लेने पर ब्याज दर कम समय (3 से 4 साल) वाले लोन की ब्याज दर से  0.50% तक ज्यादा हो सकती है.

ईएमआई को लंबा नहीं खींचना चाहिए. ज्यादा लंबी अवधि के लिए लोन लेने पर   ज्यादा ब्याज देना पड़ता है

आमतौर पर कार लोन आदमी 3 से 5 साल के लिए लेता है और अधिकतम 8 साल तक के लोन लिया जा सकता है.