खरीदने जा रहे हैं प्रीमियम हैचबैक कार? तो पहले जान लें कितनी है सुरक्षित, जानें क्या है सेफ्टी रेटिंग

कार की सेफ्टी के मामले में अब भारतीय कार ग्राहकों की दिलचस्पी बढ़ने लगी है।  

अब कार ग्राहक केवल माइलेज ही नहीं, बल्कि कार में मिलने वाले सेफ्टी फीचर्स की भी जांच-पड़ताल कर रहे हैं 

यूं तो भारतीय कार बाजार में कई कंपनियां फीचर्स से भरपूर कार बनाने का  दावा करती हैं, लेकिन उनकी असलियत क्रैश टेस्ट के समय सामने आ जाती है।  

1. टाटा अल्ट्रोज भारतीय कार बाजार में टाटा मोटर्स सबसे सुरक्षित कार बनाने वाली कंपनियों में शुमार है। 

टाटा की कारों के सभी नए मॉडल्स 4 या 5 स्टार NCAP (एनसीएपी) सेफ्टी रेटिंग के साथ आते हैं। 

बात करें Tata Altroz (टाटा अल्ट्रोज) की तो, यह देश की सबसे सुरक्षित प्रीमियम हैचबैक है 

जिसे ग्लोबल NCAP क्रैश टेस्ट में एडल्ट सेफ्टी के लिए 5-स्टार और चाइल्ड सेफ्टी के लिए 3 स्टार रेटिंग दिए गए हैं। 

सेफ्टी फीचर्स की बात करें तो, Tata Altroz के सभी वेरिएंट में स्टैंडर्ड तौर पर डुअल एयरबैग दिए गए हैं। 

2. हुंडई आई20 Hyundai i20 (हुंडई आई20) को हाल ही में भारत में इसके थर्ड जनरेशन अवतार में लॉन्च किया गया था। 

यह कार काफी नई है और इसलिए ग्लोबल एनसीएपी परीक्षण से नहीं गुजारी है।  

पिछले जनरेशन मॉडल (Elite i20) को एडल्ट सेफ्टी के लिए 3-स्टार और चाइल्ड सेफ्टी के लिए 2-स्टार सुरक्षा रेटिंग मिले थे 

जहां तक ​​नए जनरेशन मॉडल का सवाल है, हमें उम्मीद है कि हाल ही में  परीक्षण किए गए हुंडई ग्रैंड i10 Nios के विपरीत, यह बेहतर सुरक्षा रेटिंग  लेन में कामयाब होगी।