महिलाएं इन मामलों में पुरुषों से भी होती है आगे, कामुकता और बुद्धि में है श्रेष्ठ

आचार्य चाणक्य या कौटिल्य के अनुसार, महिलाओं में पुरुषों की तुलना में 6 गुना अधिक प्रभावशाली गुण होते हैं। 

परिश्रमी महिलाएं पुरुषों की तुलना में अधिक सक्रिय और फिट रहती हैं।  वह अपनी फिटनेस और एनर्जी का बेहतर ख्याल रखते हैं। 

चाणक्य का कहना है कि पुरुषों की तुलना में महिलाओं को अधिक ऊर्जा की आवश्यकता होती है, इसलिए उन्हें भूख भी अधिक लगती है।  

ऐसे में उन्हें फिट रहने के लिए ज्यादा कैलोरी की जरूरत होती है। 

भावुक होना पुरुषों की तुलना में महिलाएं अधिक भावुक होती हैं लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि यह महिलाओं की कमजोरी को दर्शाता है।  

दरअसल महिलाओं के अंदर बेहतर समझ होती है, ऐसे में यह उनके लिए एक ताकत होती है। 

ऐसे भावनात्मक क्षणों में वह जल्दी से वातावरण के अनुकूल हो जाता है।

विवेक  यह एक आम धारणा है कि महिलाएं पुरुषों की तुलना में अधिक परिपक्व होती  हैं।  ऐसे में आपको बता दें कि आचार्य चाणक्य भी ऐसा ही मानते हैं।  

उनके अनुसार, महिलाएं अपनी बुद्धि और विवेक का उपयोग करके अपना काम बेहतरीन तरीके से करने की क्षमता रखती हैं। 

तनाव आपको बता दें कि चाणक्य के अनुसार महिलाएं किसी भी स्थिति में पुरुषों की तुलना में कम तनाव लेती हैं और 

परिस्थितियों से तालमेल बिठाने की उनकी क्षमता पुरुषों से कई गुना बेहतर होती है। 

ऐसे में महिलाएं मुश्किल परिस्थितियों का बहादुरी से सामना करती हैं और बिल्कुल भी घबराएं नहीं।