चाणक्य नीति, गलती से भी इन 3 चीजों को हल्के में न लें, वरना जिंदगी भर पछताएंगे।

बीमारी से निजात  एक बार शरीर में कोई रोग आ जाए तो उससे छुटकारा पाना बहुत मुश्किल हो जाता है। 

दवाएं बीमारी को ठीक कर सकती हैं, लेकिन थोड़ी सी लापरवाही आपको महंगी पड़ सकती है।  

चाणक्य नीति के अनुसार जब कोई व्यक्ति किसी रोग से ग्रसित हो तो उसे अपने शरीर का ध्यान रखना चाहिए। 

साँप का हमला   सांप हमेशा घात लगाते हैं।  एक बार जब आप सांप के काटने से बच जाते हैं, तो यह न सोचें कि यह फिर से हमला नहीं करेगा। 

चाणक्य नीति के अनुसार, यदि आप सांप के हमले से बच जाते हैं, तो आप बहुत भाग्यशाली हैं।

घायल शत्रुओं का आक्रमण  शत्रु सांप के समान है।  दुश्मन भी सांप की तरह हमला करते हैं।  घायल शत्रु बहुत खतरनाक माने जाते हैं। 

उसके हमले से बचना मुश्किल है।  चाणक्य नीति के अनुसार शत्रु मित्र बन सकता है, लेकिन उसे हमेशा सतर्क रहना चाहिए।