इंसानों से बात करने वाले चैटबॉट से डरी गूगल:मशीन से बातचीत लीक, कंपनी ने इसे बनाने वाले इंजीनियर को छुट्टी पर भेजा

गूगल ने चैटबॉट ​​​​​लैम्डा को इस तरह से डिजाइन किया था, ताकि लोग अकेले में उससे दोस्त की तरह बात कर करें  

अपनी भावनाएं जाहिर कर सकें। इसके लिए गूगल ने उसे आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस तकनीक से जोड़ा था। लैम्डा का पूरा नाम लैंग्वेज मॉडल  

और डायलॉग एप्लिकेशन (Lamda) है। गूगल के सीनियर इंजीनियर ब्लेक लेमोइन इसे  बना रहे थ|

अपने ब्लॉग में लेमोइन ने बताया कि लैम्डा एक 'प्यारा-सा  बच्चा' है।  

इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी के इस युग में एक तकनीक से डरना थोड़ अटपटा जरूर लगता है, लेकिन बिलकुल ऐसा ही हुआ है। 

चैटबॉट लैम्डा के दिमाग से गूगल डर गई है। शुरुआत में इसे ज्यादा से ज्यादा इंसान जैसा बनाने की कोशिश की जा रही थी। 

इसमें इंसानी सोच डालने के लिए गूगल के इंजीनियर्स कड़ी मेहनत कर रहे थे,  लेकिन जब लैम्डा सचमुच ही इंसानों की तरह सोचने लगा तो गूगल ने इसे बनाने  वाले इंजीनियर को छुट्टी पर भेज दिया। 

हॉलीवुड फिल्मों में इंसानों पर रोबोट्स के हावी हो जाने की कहानी खूब  दिखाई गई है। लैम्डा वाले मसले के बाद लोग एक बार फिर इस पर बात कर रहे  हैं।