दुनियाभर में इलेक्ट्रिक व्‍हीकल्‍स (EV) का क्रेज और मांग बढ़ती जा रही है।

दुनियाभर में इलेक्ट्रिक व्‍हीकल्‍स (EV) का क्रेज और मांग बढ़ती जा रही है।

भारत में भी पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों के चलते लोग इलेक्ट्रिक गाड़ि‍यों का रुख कर रहे हैं।

रॉयटर्स के मुताबिक, अब एक रिपोर्ट में बताया गया है कि पहली बार इलेक्ट्रिक गाड़ी खरीदने वाले लोग गैसोलीन पर चलने वाली कारों में स्विच करने को लेकर अनिच्छुक थे।

JD Power की रिपोर्ट में यह बात सामने आई है।

यह स्थिति तब है, जब चार्जिंग इन्‍फ्रास्‍ट्रक्‍चर की मौजूदगी को लेकर सवाल बरकरार है।

लोगों में इलेक्ट्रिक गाड़‍ियों के क्रेज का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है

कि अमेरिका में EV की बिक्री इस महीने की शुरुआत में 4 लाख 34 हजार 879 नई यूनिट्स के साथ रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंच गई।

हालांकि हाइब्रिड गाड़‍ियों की मांग ज्‍यादा मजबूत रही, क्‍योंकि कई कस्‍टमर इलेक्ट्रिक गाड़‍ियों की ज्‍यादा कीमत, लिमिटेड ड्राइविंग रेंज और चार्जिंग स्टेशनों की कमी के कारण इन्‍हें नहीं खरीद पाए। 

JD Power में ग्लोबल ऑटोमोटिव के सीनियर डायरेक्‍टर ब्रेंट ग्रुबर ने कहा कि अपनी रिसर्च से हम यह जान पाए हैं