वायरलेस चार्जिग से लंबी दूरी तय कर सकेंगी इलेक्ट्रिक गाड़ियां

वायरलेस चार्जिग से लंबी दूरी तय कर सकेंगी इलेक्ट्एमआईईटी के अटल कम्युनिटी इनोवेशन सेंटर के  सागर कुमार और रोहित राजभर ने एक ऐसा अविष्कार किया है|

जो चलती इलेक्ट्रिक गाड़ियों को चार्ज करता रहेगा। इससे इलेक्ट्रिक  गाड़ियों के डिस्चार्ज होने की समस्या दूर होगी और कहीं रास्ते पर फंसने का  डर भी नहीं रहेगा।

उत्तर प्रदेश के मेरठ जिले के एमआईईटी कालेज के दो छात्रों सागर और रोहित  ने मिलकर वायरलेस इलेक्ट्रिक व्हीकल्स चाजिर्ंग सिस्टम बनाया है, जो कि  गाड़ी को चलते-चलते चार्ज करने में मदद करेगा।

उन्होंने बताया कि हमने देखा कि पर्यावरण को बचाने के लिए इलेक्ट्रिक गाड़ियां तो सड़कों पर चल रही है।

लेकिन चार्जिग स्टेशन सीमित होने के कारण लंबी दूरियां नहीं तय कर पाती हैं। इससे लोगों को काफी परेशानियां झेलनी पड़ती हैं।

इस समस्या से निजात दिलाने के लिए वायरलेस इलेक्ट्रिक व्हीकल्स चजिर्ंग सिस्टम बनाया है, जो चलती गाड़ी को चार्ज करता रहेगा।

सागर ने बताया कि इस सिस्टम के तहत सड़क के किनारे एक टॉवर बनाया जाएगा, जो  करेंट को गाड़ियों तक भेजने का काम करेगा। गाड़ी में एक रिसवर रखा होगा

टॉवर के रेंज में गाड़ी के आते ही उसकी बैटरी चार्ज होने लगेगी। रिसीवर  डिवाइस का गाड़ी के पास लगा होना जरूरी है। अभी यह प्रोटोटाइप का है।

उन्होंने बताया कि सड़क किनारे लगा टावर गाड़ियों में लगे रिसिवर को करेंट  देगा। रिसीवर से बैट्री चार्ज होगी। ज्यादा दूरी में अच्छा काम करेगा। इसका  प्रपोजल नीति आयोग भेजा गया है।