Electric वाहन के चाहने वालों के लिए बुरी खबर, अब ये कंपनी नहीं बनाएगी EV कार

इकोनॉमिक टाइम्स को दी ऑफिशियल जानकारी के मुताबिक फोर्ड इंडिया के स्पोकपर्सन

ने  बताया कि “हम बेहद सावधानी से रिव्यू करते हुए फैसला लिया है कि हम भारत  में किसी तरह से इलेक्ट्रिक वाहन के बाजार में निवेश नहीं करेंगे।

भारतीय बाजार से अपना व्यापार समेटने वाली फोर्ड ने एक बार फिर बड़ा फैसला किया है।

पहले  कंपनी सरकारी स्कीम के तहत फायदा उठाने के लिए इलेक्ट्रिक मार्केट  (Electric Vehicle Market) में उतरने की तैयारी कर रही थी लेकिन बाद में  फोर्ड ने अपना फैसला वापस ले लिया है।

फोर्ड फिलहाल इलेक्ट्रिक वाहन के बाजार के लिए भारत में निवेश नहीं करेगी।

फोर्ड उन 20 अलग अलग कंपनियों में से एक है, जिसने फरवरी 2022 में भारत के इलेक्ट्रिक कार बाजार में निवेश का फैसला लिया था।

कंपनी ने अपनी साणंद गुजरात और चेन्नई की फैक्ट्रियों को बेचने पर विचार कर रही है।

फिलहाल दोनों फैक्ट्रियों में कार के निर्माण की प्रक्रिया रुकी हुई है। गुजरात में स्थित साणंद फैक्ट्री को लेकर टाटा

मोटर्स से बात चल रही है, जो प्रगति पर है जबकि चेन्नई वाली फैक्ट्री के लिए अभी खरीददारों की तलाश जारी है।

इकोनॉमिक टाइम्स को दी ऑफिशियल जानकारी के मुताबिक फोर्ड इंडिया के स्पोकपर्सन ने बताया कि

हम बेहद सावधानी से रिव्यू करते हुए फैसला लिया है कि हम भारत में किसी तरह से इलेक्ट्रिक वाहन के बाजार में निवेश नहीं करेंगे।