नौकरी का तनाव और खराब लाइफस्टाइल भी दिल की बीमारियों का कारण बनता है 

काम के तनाव से 23% तक बढ़ जाता है हार्ट अटैक का खतरा - एक अध्ययन के अनुसार, अधिक मांग वाली नौकरियों और निर्णय लेने की अधिक स्वतंत्रता वाले कर्मचारी अपने

कम तनावपूर्ण नौकरियों में वृद्ध लोगों को अन्य लोगों की तुलना में दिल का दौरा पड़ने का खतरा अधिक होता है।

यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन के शोधकर्ताओं द्वारा किए गए एक अध्ययन में 'द लैंसेट' में प्रकाशित एक रिपोर्ट के अनुसार

इसमें शामिल 10,000 से अधिक सरकारी कर्मचारियों ने भी नौकरी के तनाव को हृदय रोग का एक प्रमुख कारण बताया।

कम उम्र में दिल का दौरा पड़ना एसआरएल के तकनीकी निदेशक डॉ.  आभा सबाखी ने कहा, "न केवल मध्यम आयु वर्ग में, बल्कि युवाओं में भी दिल के दौरे के मामले बढ़ रहे हैं।

अचानक दिल का दौरा पड़ने का मुख्य कारण अस्वास्थ्यकर जीवनशैली और आधुनिक जीवन से जुड़ा तनाव है।

खराब जीवनशैली कैंसर कोशिकाओं को सक्रिय कर सकती है कई अध्ययनों के अनुसार, तनाव और कैंसर के बीच कोई सीधा संबंध नहीं है,

लेकिन कुछ लोग तनाव से निपटने के लिए खराब जीवनशैली अपना सकते हैं। 

शोधकर्ताओं के अनुसार, तनाव का संबंध अतिरिक्त तनाव वाले हार्मोन के प्रति शरीर की प्रतिक्रिया से होता है।

ये हार्मोन पुरानी सूजन को सक्रिय और बनाए रखने में सक्षम हैं, जिससे कैंसर होता है।