किसी होटल के कमरों में कहां छिपे हो सकते हैं कैमरे, जानिए लीजिये सबकुछ विस्तार से

कमरे में हमेशा फायर अलार्म और स्मोक डिटेक्टर चेक करें क्योंकि ज्यादातर कैमरे यहीं छिपे होते हैं।

होटल के कमरों में शीशे, अलमारी और वॉशरूम की जाँच करें क्योंकि वे कैमरे  छिपा सकते हैं।  इसके लिए आपको टू-वे मिरर टेस्ट करना होगा।  

इसके लिए आपको अपने नाखून के सिरे को परावर्तक सतह से पकड़ना होगा और अगर  आपके नाखून और नाखून की छवि के बीच गैप है तो सब कुछ ठीक है। 

लेकिन अगर इसके विपरीत आपके नाखून सीधे आपके नाखून की छवि को छूते हैं, तो कुछ गलत है।

अलार्म घड़ियों के स्पीकर और स्पीकर मेष के अंदर छिपे हुए कैमरे आसानी से स्थापित किए जा सकते हैं।  

इसके अलावा अगर होटल के कमरे में लो हैंगिंग क्लॉक है तो अपने मोबाइल की फ्लैशलाइट से इसे ध्यान से देखें।  

यदि आप परीक्षण के बाद भ्रमित हैं, तो वस्तु को कपड़े या टिशू पेपर से ढक दें। 

लैम्प के अंदर एक छिपा हुआ कैमरा भी होता है।  इसलिए, होटल के कमरे में मौजूद सभी प्रकार के लैंप की जांच करें कि कहीं कोई 

हिडन कैमरा तो नहीं लगा है।  जब संदेह हो, तो दीपक को बंद कर दें और इसे कपड़े या टिश्यू पेपर से ढक दें।

होटल के कमरे में लगे पावर प्लग या सॉकेट को भी चेक करें।  इन सॉकेट के अंदर कैमरे भी लगाए जा सकते हैं।

होटल के कमरे में अलमारी, दराज, पर्दे और पर्दे के साथ-साथ दरवाजों और उनके घुंडी की भी जाँच करें क्योंकि यहाँ कैमरे भी छिपे हो सकते हैं।

होटल के तौलिये और हेयर ड्रायर में छिपे हुए कैमरे भी हो सकते हैं।  इसे भी जांचें।

कमरे में लगे एसी को मोबाइल की फ्लैश लाइट से चेक करें।  साथ ही पंखुड़ी पर लगे स्प्लिट इक्का को भी चैक करें।