RBI जल्द डिजिटल लोन देने वाले प्लेटफॉर्म्स के लिए लाएगा नियम, कई ऐप्स अवैध: गवर्नर शक्तिकांत दास

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के गवर्नर शक्तिकांत दास (Shaktikanta Das) ने गुरुवार को कहा कि केंद्रीय बैंक जल्द ही डिजिटल लोन प्लेटफॉर्म के लिए नियामकीय रूपरेखा लेकर आएगा

बता दें कि इन मंचों में कई अनधिकृत और अवैध हैं. डिजिटल कर्ज ऐप (Digital Loan Apps) के कुछ परिचालकों द्वारा कर्ज लेने वालों के उत्पीड़न की वजह से उनके बीच कथित रूप से आत्महत्या के मामले बढ़ रहे हैं.

दास ने भारतीय व्यापार (अतीत, वर्तमान और भविष्य) विषय पर एक व्याख्यान देते हुए कहा कि उन्हें लगता है

हुत जल्द वे एक व्यापक नियामकीय ढांचे (Regulation Framework) के साथ सामने आएंगे, जो डिजिटल मंचों के जरिये ऋण देने

संबंध में उनके सामने आने वाली चुनौतियों का समाधान करने में सक्षम होगा.  उन्होंने कहा कि इन मंचों में कई अनधिकृत और बिना पंजीकरण के चल रहे हैं

इस व्याख्यान का आयोजन आजादी का अमृत महोत्सव कार्यक्रम के तहत केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क बोर्ड (सीबीआईसी) ने किया था

दास ने बुधवार को कहा था कि बिना पंजीकरण के डिजिटल ऋण देने वाले ऐप से  कर्ज लेने वाले ग्राहकों को किसी भी तरह की मुश्किल होने पर स्थानीय पुलिस  से संपर्क करना चाहिए.

उन्होंने यह साफ करते हुए कहा कि केंद्रीय बैंक केवल उसके साथ पंजीकृत संस्थाओं के खिलाफ कार्रवाई करेगा

गवर्नर ने कहा कि आरबीआई की वेबसाइट पर उन ऐप की एक सूची है, जो उसके साथ  पंजीकृत हैं. उन्होंने कहा कि कई राज्यों में पुलिस ने कानून के प्रावधानों  के अनुसार गलत काम करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की है.