सोलर सिस्टम बेचा तो होगी किसान पर कार्रवाई, जगह बदलने पर खत्म हो जाएगी कंपनी की गारंटी

खेतों में सिंचाई के लिए लगाए गए सोलर सिस्टम लगवा कर फिर उन्हें बेचने वाले किसानों पर कार्रवाई होगी।

नवीन एवं नवीकरणीय उर्जा विभाग को ऐसी शिकायतें मिल रही है कि कृषि कार्य के लिए

लगवाया गया सौलर सिस्टम किसानों के द्वारा अब किन्हीं दूसरे कार्यों के लिए प्रयोग किया जा रहा है।

सौलर सिस्टम के लिए निर्धारित की गई जगह के अलावा सोलर पम्प सेट दूसरी जगह लगाया तो सब्सिडी

का अधिकार नहीं है और किसी अन्य को बेच दिया तो उसके खिलाफ  कार्यवाही की जाएगी

सोलर सिस्टम पर 75 प्रतिशत अनुदान दिया गया है और इसका उद्देश्य बिजली की खपत कम करना है।

सोलर पंप के लिए निर्धारित की गई जगह से दूसरी जगह सिस्टम को नहीं लगा सकते और न ही कंपनी ऐसा कर सकती है।

ऐसा करने से सरकार सब्सिडी की राशि वापिस ले लेगी और कंपनी द्वारा दी गई गांरटी भी खत्म हो जाएगी।

अधिकारी किसी भी समय किसानों को दिए गए सोलर पंप सिस्टम का निरीक्षण कर सकते हैं तथा निरीक्षण के समय लगाए

गए पंप अपने स्थान पर न मिलने पर किसान व कंपनी दोनों पर कार्यवाही की जा सकती है।