भारत को रूस से मिल सकता है टीयू 160 ब्लैक जैक बॉम्बर, जानें इसके फीचर्स 

यानी वह विमान जिसने लंबी दूरी तक उड़ान भरी और दुश्मन के इलाके में बड़े-बड़े बम गिराकर वापस लौटा।   

अब इसका उपयोग हाइपरसोनिक, क्रूज और सुपरसोनिक परमाणु मिसाइलों को लॉन्च करने के लिए भी किया जा सकता है। 

क्योंकि यह डील रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस डील की सफलता के बाद भी हो सकती है। 

Tu-160 बॉम्बर को व्हाइट स्वान के नाम से भी जाना जाता है।  नाटो में इसका रिपोर्टिंग नाम ब्लैक जैक है।   

इसे 1970 के दशक में सोवियत संघ के टुपोलेव डिज़ाइन ब्यूरो द्वारा डिज़ाइन किया गया था।  इसकी पहली उड़ान दिसंबर 1981 में हुई थी।   

Tu-160 ब्लैक जैक बॉम्बर के 9 परीक्षण विमान बनाए गए थे।  उसके बाद 27 और इकाइयां बनाई गईं। 

2016 तक, 16 विमान रूसी वायु सेना की लंबी दूरी की विमानन शाखा में मौजूद हैं। 

रूस ने अपनी सेना में 50 नए Tu-160M ​​बमवर्षक जोड़ने की योजना बनाई है। 

फेस पर लगाएं इस तेल की बूंदें, गर्मी में भी नहीं होगी पिंपल्स की समस्या