UPI यूजर्स को बड़ा झटका, पेमेंट ट्रांसफर करने का चार्ज!  आरबीआई ला रहा है नए नियम

जनता से शुल्क वसूलने की मांगी सलाह इसके लिए आरबीआई ने 'पेमेंट सिस्टम में चार्जेज पर डिस्कशन पेपर' जारी किया है। 

केंद्रीय बैंक की ओर से अखबार ने कहा कि ऑपरेटर के तौर पर रिजर्व बैंक  (आरबीआई) को आरटीजीएस में भारी निवेश और परिचालन लागत वहन करनी होगी। 

UPI पर चार्ज लगेगा रिजर्व बैंक के मुताबिक इसमें जनता का पैसा लगाया गया है।  ऐसे में इसकी कीमत को हटाना जरूरी है। 

आरबीआई ने यह भी स्पष्ट किया कि रियल टाइम ग्रॉस सेटलमेंट यानी आरटीजीएस में लगाया जाने वाला शुल्क कमाई का जरिया नहीं है। 

लेकिन UPI ​​से शुल्क लिया जाएगा ताकि भविष्य में यह सुविधा निर्बाध रूप से जारी रहे। 

रीयल टाइम फंड ट्रांसफर सुविधा   UPI पेमेंट ट्रांसफर के लिए रियल टाइम ट्रांसफर की सुविधा प्रदान करता है।  इसी तरह, यह रीयल टाइम सेटलमेंट भी सुनिश्चित करता है। 

इस पूरे सिस्टम को तैयार करने और बिना किसी जोखिम के फंड ट्रांसफर करने के लिए इंफ्रास्ट्रक्चर तैयार करने की जरूरत है 

आरबीआई ने यह भी सवाल किया कि मुफ्त सेवा के सामने महंगे बुनियादी ढांचे के निर्माण और 

इसे कुशल बनाने की भारी लागत कौन वहन करेगा। 

आरबीआई के इन सवालों से साफ है कि आने वाले दिनों में यूपीआई के जरिए फंड ट्रांसफर करना महंगा हो सकता है।